इतिहास के पन्नों में 17 दिसंबरः दो भाइयों की कल्पना हुई साकार, पहला विमान, पहली उड़ान

Spread the love

देश-दुनिया के इतिहास में 17 दिसंबर की तारीख तमाम अहम वजह से दर्ज है। यह तारीख विमानन इतिहास के लिए सबसे ज्यादा खास है। हुआ यह था कि अमेरिका के पश्चिमी वर्जीनिया के हटिंगटन शहर के एक बिशप ने अपने दो बेटों को एक खिलौना लाकर दिया। खिलौना फ्रांस के एयरोनॉटिक साइंटिस्ट अल्फोंसे पेनाउड के आविष्कार पर आधारित एक मॉडल था। यह कागज, रबर और बांस से निर्मित था। यही वो घटना है, जिससे इन भाइयों की कल्पना को उड़ान दी।

Advertisement

17 दिसंबर, 1903 को इन दोनों भाइयों की कल्पना यथार्थ में बदली और जमीन से 120 फीट ऊपर 12 सेकंड की उड़ान भरने में कामयाब हुई। यह दो भाई थे विल्बर और ऑरविल राइट। उन्होंने पहली बार किसी विमान को उड़ाकर इतिहास रचा। इस विमान का नाम दोनों भाइयों के नाम पर राइट फ्लायर रखा गया। समूची मानव सभ्यता के लिए यह किसी कारनामे से कम नहीं था। आसमान में उड़ने का इनसान का सपना हकीकत में बदल चुका था।

Advertisement
Advertisement

राइट ब्रदर्स की इस सफलता के पीछे विफलता की कई कहानियां थीं। राइट ब्रदर्स की हवाई जहाज बनाने की कई कोशिशें नाकाम हुईं, लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। दोनों भाइयों में मशीनी तकनीक की अच्छी जानकारी थी। इससे पहले वह प्रिटिंग प्रेस, मोटरों की दुकानों और अन्य जगहों पर काम कर चुके थे। उन्होंने साइकिल के पुर्जे जोड़कर हवाई जहाज का आविष्कार किया। फ्रांस की एक कंपनी ने दावा किया था कि उन्होंने इसका आविष्कार पहले ही कर लिया था, लेकिन, साल 1908 में राइट ब्रदर्स को इसकी मान्यता मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *