डॉ. एस.आनंद को मिला ‘भोलानाथ गहमरी स्मृति सम्मान’

वाराणसी : बुधवार को विश्व भोजपुरी सम्मेलन के बैनर तले अन्तर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के अवसर पर जीवनदीप शिक्षण समूह के प्रेक्षागृह में एक भव्य समारोह आयोजित किया गया। शहर के अतिरिक्त बिहार, बलिया, छत्तीसगढ़, दिल्ली तथा अन्य कई प्रदेशों के प्रतिभागियों ने इसमें शिरकत की तथा भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने की पुरजोर मांग की।

विश्व भोजपुरी सम्मेलन के राष्ट्रीय महासचिव डॉ. अशोक सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वाराणसी आगमन पर उन्हें एक ज्ञापन देने की बात कही तथा भोजपुरी के प्रचार प्रसार की अनेक योजनाओं पर प्रकाश डाला। विश्व भोजपुरी सम्मेलन के उत्तर प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष ओम धीरज तथा सचिव चंद्रकांत सिंह के अतिरिक्त भोजपुरी के प्रोफेसर जयकांत सिंह, ‘पाखी’ पत्रिका के संपादक अशोक द्विवेदी, गुरुशरण सिंह एवं कई विशिष्ट वक्ताओं ने अपने विचार व्यक्त किए।

दूसरे क्रम में सम्मान समारोह आयोजित किया गया जिसमें कुछ प्रमुख हस्तियों को भोजपुरी भाषा के प्रचार-प्रसार में सक्रिय भूमिका निभाने के लिए विभिन्न स्मृति सम्मान प्रदान किए गये। समारोह में कोलकाता से आमन्त्रित साहित्यकार डॉ. एस. आनंद को भोजपुरी के स्वनामधन्य कवि भोलेनाथ गहमरी स्मृति सम्मान से नवाजा गया।

यह सम्मान प्रो. जयकांत सिंह, ममता सिंह व अशोक द्विवेदी के कर कमलों से दिया गया। सम्मान मिलने के बाद एस. आनंद ने संस्था के पदाधिकारियों को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा, ‘गहमरी जी से मेरी दो पीढ़ियों का संबंध रहा तथा मुझे इलाहाबाद में एक साल तक उनके साथ रहने का सौभाग्य भी मिला था। आज उनके नाम का सम्मान पाकर मैं बहुत खुश हूं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− 1 = 6