ईडी ने कोलकाता में चिटफंड समूह के निदेशक को गिरफ्तार किया

कोलकाता : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बहु-स्तरीय विपणन (चिट फंड) योजनाओं में निवेशकों को लगभग 1,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में चिट फंड इकाई यूआरओ ग्रुप के मालिक-निदेशक विश्वप्रिय गिरि को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया।

यह पहली बार नहीं है कि गिरि को गिरफ्तार किया गया है़। इससे पहले फरवरी 2015 में, पश्चिम बंगाल में चिट फंड की जांच शुरू होने के तुरंत बाद, उन्हें बिधाननगर सिटी पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

Advertisement

पता चला है कि ईडी के अधिकारियों ने उन्हें रविवार दोपहर कोलकाता के साल्ट लेक कार्यालय में पूछताछ के लिए उपस्थित होने के लिए समन जारी किया था। सूत्रों ने बताया कई घंटों तक मैराथन पूछताछ के बाद आखिरकार उसे सोमवार सुबह गिरफ्तार कर लिया गया।

ईडी के अधिकारी उसे सोमवार को ही कोलकाता में धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) की एक विशेष अदालत में पेश करेंगे और केंद्रीय एजेंसी के वकील आगे की पूछताछ के लिए उसकी हिरासत की मांग करेंगे।

पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर जिले के रहने वाले गिरि को जब पिछली बार फरवरी 2015 में गिरफ्तार किया गया था, तब बिधाननगर सिटी पुलिस ने उनके खिलाफ कुल आठ मामले दर्ज किए थे।

उन्हें राज्य के कई प्रभावशाली राजनेताओं के साथ घनिष्ठ संबंधों के लिए जाना जाता है, और सत्तारूढ़ दल के कई वरिष्ठ नेताओं को अतीत में यूआरओ समूह के उत्पादों का समर्थन करते देखा गया था।

कंपनी के खिलाफ मुख्य आरोप यह है कि उसने एक निश्चित अवधि के बाद आकर्षक रिटर्न के बदले कई बहु-स्तरीय विपणन योजनाओं के तहत आम निवेशकों से भारी मात्रा में धन एकत्र किया लेकिन निवेशकों के पैसे कभी वापस नहीं लौटाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

55 − 50 =