इसरो प्रतिनिधिमंडल आएगा जादवपुर, बाल संरक्षण आयोग का तीसरा नोटिस

कोलकाता : जादवपुर यूनिवर्सिटी में रैगिंग की वजह से एक छात्र की मौत की घटना के बाद यहां एंटी रैगिंग टेक्नोलॉजी स्थापित करने की कवायद शुरू कर दी गई है। राज्यपाल डॉक्टर सी.वी. आनंद बोस की ओर से पहल किए जाने के बाद अब खबर है कि जल्द ही इसरो का एक प्रतिनिधिमंडल यहां का दौरा कर सकता है।

इसके अलावा विश्वविद्यालय के छात्रावास में गमले में गांजा की खेती उजागर होने के बाद एक और वीडियो सामने आया है जिसमें यहां के ओपन एयर थिएटर (ओएटी) में बीयर बार की तरह शराब की बोतलें सजाई हुई नजर आई हैंं। आज सुबह ओएटी की सफाई करते समय सफाईकर्मियों को शराब की बोतलों का ढेर मिला। करीब 500 शराब की बोतलें बरामद की गईं।

Advertisement
Advertisement

इस घटना से स्वाभाविक तौर पर निगरानी पर सवाल खड़ा हो गया है। इस संदर्भ में जादवपुर यूनिवर्सिटी के अस्थायी कुलपति बुद्धदेव साव ने कहा कि इससे समझ आता है कि सीसीटीवी की जरूरत क्यों है। यूनिवर्सिटी में कड़ी सुरक्षा की जरूरत है। साव ने कहा कि मैंने कल जरूरी निर्देश दिये थे। यथाशीघ्र कार्रवाई होगी। पहले चरण में गेट और हॉस्टलों पर सीसीटीवी लगाए जाएंगे। इसरो से परामर्श के बाद जहां भी वे कहेंगे वहां सीसीटीवी लगाया जाएगा। इसरो एक प्रतिनिधिमंडल भेजेगा।

इधर राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग के सूत्रों ने बताया है कि दो बार विश्वविद्यालय प्रबंधन को नोटिस दिया गया है और दोनों बार घटना को लेकर रिपोर्ट संतोषजनक नहीं है। तीसरी नोटिस देने की प्रक्रिया शुरू की गई है। अगर संतोष जनक जवाब नहीं मिले तो आवश्यकता पड़ने पर कानूनी कदम उठाए जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

56 − = 51