रोज़गार और जीवन में बेहतर अवसर दिलाने के लिए महिलाओं को ड्राइविंग करने हेतु प्रोत्साहित करने के लिए राष्ट्रीय मुहिम

कोलकाता : यूनाइटेड किंगडम स्थित चैरिटी शेल फाउंडेशन और यू के सरकार ने मूंविंग वुमन सोशल इनिशिएटिव फाउंडेशन (MOWO) के सहयोग से ‘मूविंग बाउंड्रीज़’ नामक एक मुहिम शुरू की है। इसका मकसद है महिलाओं को ड्राइविंग सीखने और करने के लिए प्रेरित करना ताकि वे पारिस्थिकीतंत्र की अड़चनों को दूर करते हुए ट्रांसपोर्टेशन उद्योग में बतौर टैक्सी और ई-रिक्शा ड्राइवर या ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए डिलिवरी एजेंट्स के रूप में अपने लिए रोज़गार की बेहतर संभावनाएं तलाश सकें।

इस मुहिम के तहत मोवो (MOWO) की संस्थापक जय भारती अपनी मोटरसाइकल पर भारत का भ्रमण करेंगी। 11 अक्टूबर से शुरू की गई इस यात्रा में वे 40 दिनों में देश के 20 शहरों में जाएंगी ताकि महिलाओं को ड्राइविंग सीखकर अपने लिए रोज़गार के मौके बढ़ाने को जागरुक और प्रोत्साहित कर कें। अपने इसी दौरे के तहत आज सुश्री भारती कोलकाता पहुंची। हैदराबाद से अपने टूर की शुरुआत करने वाली भारती बंगलुरू, चेन्नई, कोची, गोवा, पुणे, मुंबई, सूरत, अहमदाबाद, उदयपुर, जयपुर, नई दिल्ली, लखनऊ, वाराणसी, पटना और गुवाहाटी का सफर तय कर चुकी हैं। इसके बाद वे रांची, भुवनेश्वर जैसे अन्य शहरों में जाएंगी।

इस मुहिम का मकसद है कि महिलाएं इस बात के प्रति जागरुक हों कि ड्राइविंग और अकेले सुरक्षित यात्रा करना कितना ज़रूरी है क्योंकि इससे वे अपने जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी अपनी संभावनाओं का विस्तार भी कर सकती हैं। मुहिम का ज़ोर न सिर्फ इस बात पर है कि महिलाएं ड्राइविंग सीखें बल्कि इलेक्ट्रिक वाहन भी खरीदें, जिससे वे कमाई कर सकें और साथ ही ट्रांसपोर्ट क्षेत्र से कार्बन एमिशन (उत्सर्जन) भी कम किया जा सके।

‘इवेन कार्गो’, जो कि एक ऐसी सामाजिक संस्था है जो महिला ड्राइवर्स को प्रशिक्षण, रोज़गार देने और इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने में मदद करती, भी इस मुहिम में सहयोग कर रही है।

‘मूविंग बाउंड्रीज़’ के बारे में बात करते हुए सुश्री जय भारती- संस्थापक मोवो (MOWO) ने कहा, “ दुनियाभर में महिलाओं को अपने आवागमन को लेकर कई अड़चनों का सामना करना पड़ता है। वे अच्छी पढ़ाई या ऐसे कामों के लिए घर से ज्यादा दूर नहीं जा पातीं, जिसमें उन्हें ज्यादा या असुरक्षित यात्रा करनी पड़े। ऐसे में उनके पास रोज़गार के काफी सीमित मौके ही रह जाते हैं। मैं, अपनी मोटरबाइक पर इस 40 दिनों की यात्रा को लेकर बेहद उत्साहित हूं। इस दौरान मुझे देश भर में सभी वर्गों की महिलाओं से मिलने और ऐसी वर्कशॉप करने का मौका मिलेगा जहां मैं उन्हें यह बता सकती हूं कि ड्राइविंग एक ऐसा काम है जो न सिर्फ उनके लिए संभव है बल्कि वे इसे रोज़गार के रूप में चुन सकती हैं। एक सुरक्षित माहौल निर्माण करना बेहद ज़रूरी है जहां महिलाओं को न सिर्फ यात्रा करने के लिए भरोसेमंद ट्रांसपोर्टेशन की सुविधा मिले बल्कि वे अपने वाहन खरीदकर आजीविका भी कमा सकें। यह एक शानदार तरीका भी है उस सेक्टर में महिलाओं की भागीदारी और रोज़गार की संभावनाओं को बढ़ावा देने का जो पारंपरिक रूप से पुरुषों पर केंद्रित रहा है।”

इस साझेदारी पर बात करते हुए शेल फाउंडेशन की श्रीमती शिप्रा नायर ने कहा कि, “ हमने मूविंग बाउंड्रीज़ की शुरुआत महिलाओं के लिए सुरक्षित, किफायती, और स्वच्छ ट्रांसपोर्टेशन को बढ़ावा देने के मकसद से की ताकि वे बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं, शिक्षा और नौकरियां प्राप्त कर सकें। हमारा लक्ष्य है एक ऐसा माहौल तैयार करना जहां महिलाएं ड्राइविंग सीखकर, अपने वाहन खरीदें और वर्कफोर्स का हिस्सा बनें और ट्रांसपोर्ट से जुड़े सेक्टर्स जैसे कि ई-रिक्शा चला सकें और डिलिवरी एजेंट्स की तरह काम कर सकें। हमारा लक्ष्य है कि हम महिलाओं की मोबिलिटी बढ़ाकर उन्हें समान अवसर पाने में मदद कर सकें। हमें उम्मीद है कि अगले 5 सालों में निम्न आय वर्ग से आने वाली महिलाओं को प्रशिक्षण और रोज़गार के मौके उपलब्ध करानेवाली ऐसी कई अन्य संस्थाओं को सहयोग देकर, हम बड़ी संख्या में ऐसी महिला ड्राइवर्स को तैयार कर सकते हैं जो इलेक्ट्रिक वाहन की मालिक होंगी और भारत के 100 से भी ज्यादा शहरों और गांवों में दूसरी महिलाओं के लिए सुरक्षित ट्रांसपोर्टेशन और कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने का काम करेंगी।”

महिलाओं के लिए रोज़गार और आंत्रप्रेन्योरशिप के मौकों को बढ़ावा देना, शेल फाउंडेशन का एक अहम लक्ष्य है। यू के की सरकार के साथ मिलकर शेल फाउंडेशन ने साल 2017 में पावर्ड (POWERED- प्रमोशन ऑफ वुमेन इन इनर्जी रिलेटेड एंटरप्राइज़ेस फॉर डेवलपमेंट) नामके एक महिलाओं पर केंद्रित प्रोग्राम की शुरुआत की ताकि भारत में स्वच्छ ऊर्जा और वैल्यू चेन में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाया जा सके। पावर्ड प्रोग्राम, उन संस्थाओं का सहयोग करता है जो ट्रांसपोर्टेशन और लजिस्टिक्स क्षेत्र में महिलाओं को नौकरी देकर उन्हें शामिल करते हैं और कमाई करने के लिए इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने में उनकी सहायता करते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 + 2 =