एनआईए ने एक पाकिस्तानी नागरिक सहित दो लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया

Spread the love

नयी दिल्ली : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने हिंसा और आतंक के माध्यम से जम्मू-कश्मीर की शांति और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने की आतंकी साजिश मामले में बुधवार को दो लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है। इनमें एक आरोपित कुपवाड़ा निवासी उबैद मलिक है और दूसरा आरोपित पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) का मुहम्मद दिलावर इकबाल उर्फ माज़ खान कश्मीरी उर्फ माज़ खान उर्फ माज़ कश्मीरी उर्फ आज़ाद कश्मीरी है।

एनआईए के आरोप पत्र में कहा गया है कि सुरक्षा बलों और तथाकथित बाहरी लोगों पर हमले करके जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने की आपराधिक साजिश में दोनों शामिल थे। एनआईए ने संज्ञान लेते हुए 21 जून, 2022 को मामला दर्ज किया था। एनआईए के मुताबिक जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मौलाना मसूद अज़हर अल्वी का करीबी सहयोगी दिलावर प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों और उनके सहयोगियों द्वारा आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए रची गई एक बड़ी साजिश के तहत कश्मीरी युवाओं को प्रेरित करने में लगा हुआ था।

Advertisement
Advertisement

एनआईए की जांच के अनुसार उबैद को जेईएम आतंकवादी रैंक में शामिल होने के लिए दिलावर जिम्मेदार था। वह उग्रवादी पृष्ठभूमि वाले युवाओं को भड़काऊ ऑडियो क्लिप और वीडियो के साथ-साथ मौलाना मसूद अज़हर अल्वी की तस्वीरें साझा करके जिहाद के लिए उकसाने के लिए कट्टरपंथी इस्लाम का प्रचार करता है। वह कश्मीर घाटी में मुठभेड़ों से संबंधित वीडियो भी भेजता था और युवाओं को हथियार उठाने के लिए उकसाता था।

इसका उद्देश्य द रेसिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ), यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट जम्मू एंड कश्मीर (यूएलएफजेएंडके), मुजाहिदीन गजवत-उल-हिंद (एमजीएच), जम्मू एंड कश्मीर फ्रीडम जैसे नए उभरे आतंकवादी समूहों के ओवर-ग्राउंड कार्यकर्ताओं को संगठित करना और स्थानीय युवाओं को कट्टरपंथी बनाना है। ये संगठन फाइटर्स (जेकेएफएफ), कश्मीर टाइगर्स, पीएएएफ और अन्य लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी), जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम), हिज्ब-उल-मुजाहिदीन (एचएम), अल-बद्र, अल-कायदा आदि जैसे प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों से संबद्ध हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *